Neo Bank: पुराने ज़माने की बैंकिंग से ऊब चुके लोगों का नया विकल्प, जानिए क्या है खासियत

नियो बैंक एक प्रकार का डिजिटल बैंक है जो पारंपरिक बैंकों की तुलना में अधिक सुविधाजनक और किफायती सेवाएं प्रदान करता है। नियो बैंकों के पास कोई शाखाएं नहीं होती हैं, और वे अपनी सभी सेवाएं ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से प्रदान करते हैं।

Photo of author

Reported by अतुल कुमार

Published on

Neo Bank: पुराने ज़माने की बैंकिंग से ऊब चुके लोगों का नया विकल्प, जानिए क्या है खासियत

आज के डिजिटल युग में, बैंकिंग से जुड़े किसी भी काम को करने के लिए नागरिक को कई आसान सुविधा प्रदान की गई हैं जिन्हें आप घर अथवा किसी भी समय घर बैठकर मोबाइल से बैंकिंग का काम पूरा कर सकते हैं। देश में आज हर दूसरा व्यक्ति मोबाइल चलाता है, इसलिए डिजिटल बैंकिंग को बड़ी तेजी से लोग अपना रहे हैं।

परन्तु, कई लोगों को बैंकिंग एक कठिन प्रक्रिया लगती है। जो लोग कम पढ़े-लिखे होते हैं, वे लोग बैंक की शाखा में जाकर अपना काम करते हैं। लेकिन अब, नियो बैंक के आने से बैंकिंग प्रक्रिया और भी सरल और सुविधाजनक हो गई है। आइए जानते हैं नियो बैंक द्वारा कौन सी नई आसान सुविधा को लॉन्च किया जा रहा है।

Neo Bank: पुराने ज़माने की बैंकिंग से ऊब चुके लोगों का नया विकल्प, जानिए क्या है खासियत
Neo Bank: पुराने ज़माने की बैंकिंग से ऊब चुके लोगों का नया विकल्प, जानिए क्या है खासियत

नियो बैंक क्या है?

नियो बैंक एक प्रकार का डिजिटल बैंक है जो पारंपरिक बैंकों की तुलना में अधिक सुविधाजनक और किफायती सेवाएं प्रदान करता है। नियो बैंकों के पास कोई शाखाएं नहीं होती हैं, और वे अपनी सभी सेवाएं ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से प्रदान करते हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

नियो बैंक की सुविधाएं

नियो बैंक पारंपरिक बैंकों की तुलना में कई तरह की सुविधाएं प्रदान करते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • कम लागत: नियो बैंकों की सेवाओं की लागत पारंपरिक बैंकों की तुलना में कम होती है।
  • तेजी: नियो बैंक अपने ग्राहकों को तेज और कुशल सेवा प्रदान करते हैं।
  • सुविधा: नियो बैंकों की सेवाएं ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से आसानी से उपलब्ध होती हैं।
  • नई सुविधाएं: नियो बैंक नई-नई सुविधाओं को लगातार जोड़ रहे हैं, जो ग्राहकों के लिए सुविधाजनक होती हैं।

नहीं है कोई फिजिकल ब्रांच 

नियो बैंकिंग में कोई फिजिकल ब्रांच नहीं होती है। नियो बैंक पूरी तरह से डिजिटल होते हैं, और वे अपनी सभी सेवाएं ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से प्रदान करते हैं। नियो बैंकिंग एक नई तरह की बैंकिंग है जो पारंपरिक बैंकिंग की तुलना में अधिक सुविधाजनक और किफायती है। इसका कारण यह है कि नियो बैंकों के पास कोई शाखाएं नहीं होती हैं, जिससे उनके संचालन की लागत कम होती है। यह उन्हें अपने ग्राहकों को कम शुल्क पर अधिक सेवाएं प्रदान करने की अनुमति देता है।

नियो बैंकिंग तेजी से लोकप्रिय हो रही है, विशेष रूप से युवा और डिजिटल रूप से कुशल लोगों के बीच। इसका कारण यह है कि ये लोग शाखाओं पर निर्भर रहना पसंद नहीं करते हैं, और वे अपनी बैंकिंग कार्यवाही ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से करना पसंद करते हैं। भारत में, नियो बैंकिंग अभी भी एक अपेक्षाकृत नई अवधारणा है, लेकिन यह तेजी से लोकप्रिय हो रही है। कई भारतीय नियो बैंक बाजार में हैं, और आने वाले वर्षों में इस क्षेत्र में और अधिक वृद्धि होने की संभावना है।

क्या बैंकिंग में होगा बदलाव?

नियो बैंकिंग में आने वाले समय में कई तरह के बदलाव देखने को मिल सकते हैं। इनमें से कुछ बदलाव इस प्रकार हैं:

  • नई सुविधाओं का उदय: नियो बैंक लगातार नई-नई सुविधाओं को जोड़ रहे हैं। इनमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), मशीन लर्निंग (ML), और ब्लॉकचेन जैसी तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है। इन नई सुविधाओं से नियो बैंकिंग और अधिक सुविधाजनक और सुरक्षित हो जाएगी।
  • पारंपरिक बैंकों का बदलाव: पारंपरिक बैंक भी नियो बैंकिंग की बढ़ती लोकप्रियता के कारण अपनी सेवाओं में बदलाव कर रहे हैं। वे भी अपनी सेवाओं को अधिक डिजिटल और सुविधाजनक बना रहे हैं।
  • नए प्रतिस्पर्धियों का उदय: नियो बैंकिंग एक तेजी से बढ़ती हुई बाजार है। इसमें नए प्रतिस्पर्धियों का उदय होना स्वाभाविक है। ये नए प्रतिस्पर्धी नियो बैंकिंग में नवाचार ला सकते हैं और ग्राहकों को बेहतर सेवाएं प्रदान कर सकते हैं।

कोरोना के मामले में फिर से उछाल, सावधानी बरतने की जरूरत

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है। इसने लोगों के जीवन और कार्यशैली में भी कई बदलाव किए हैं। बैंकिंग क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं रहा है।कोरोना महामारी के कारण लोग घर से ही काम करने लगे हैं। इससे उन्हें बैंक की शाखाओं में जाने की आवश्यकता कम हो गई है। इसने डिजिटल बैंकिंग की मांग को बढ़ा दिया है।

नियो बैंक डिजिटल बैंकिंग का एक रूप है। ये बैंक पारंपरिक बैंकों की तुलना में अधिक सुविधाजनक और किफायती सेवाएं प्रदान करते हैं।कोरोना महामारी के कारण नियो बैंकों का तेजी से विकास हुआ है। 2020 में, नियो बैंकों के ग्राहक आधार में 50% की वृद्धि हुई है।भारत में भी नियो बैंकों का तेजी से विकास हो रहा है। 2020 में, भारत में नियो बैंकों के ग्राहक आधार में 100% की वृद्धि हुई है।कोरोना महामारी ने नियो बैंकों के लिए एक सुनहरा अवसर प्रदान किया है। इस महामारी ने लोगों को डिजिटल बैंकिंग के लाभों से अवगत कराया है।

नियो बैंक के लाभ

नियो बैंक पारंपरिक बैंकों की तुलना में कई तरह के लाभ प्रदान करते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • कम लागत: नियो बैंकों की सेवाओं की लागत पारंपरिक बैंकों की तुलना में कम होती है, जिससे आप अपने पैसे बचा सकते हैं।
  • सुविधा: नियो बैंकों की सेवाएं ऑनलाइन या मोबाइल ऐप के माध्यम से आसानी से उपलब्ध होती हैं, जिससे आप अपनी बैंकिंग कार्यवाही कहीं से भी और कभी भी कर सकते हैं।
  • नई सुविधाएं: नियो बैंक नई-नई सुविधाओं को लगातार जोड़ रहे हैं, जो ग्राहकों के लिए सुविधाजनक होती हैं।

नियो बैंक के नुकसान

नियो बैंकों के कुछ नुकसान भी हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • कम शाखाओं: नियो बैंकों के पास कोई शाखाएं नहीं होती हैं, जिससे आपको शाखा संबंधी सुविधाओं का लाभ नहीं मिल पाता है।
  • कम ग्राहक सेवा: नियो बैंकों में ग्राहक सेवा पारंपरिक बैंकों की तुलना में कम होती है। आपको किसी समस्या के लिए लंबे समय तक इंतजार करना पड़ सकता है।

Leave a Comment