RBI Digital Rupee: डिजिटल करेंसी क्या है? प्रकार, उपयोग और विशेषताएं

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 1 दिसंबर, 2022 से डिजिटल रुपये (e₹-R) को पेश किया है, जो भारत की आधिकारिक डिजिटल मुद्रा है। डिजिटल रुपये एक केंद्रीय बैंक द्वारा जारी मुद्रा है और इसे भारतीय रुपये के समान माना जाता है। इसका उद्देश्य मूल्य के भंडार और लेनदेन के माध्यम के रूप में कार्य करना है, और इसलिए इस पर कोई ब्याज नहीं दिया जाता है। RBI ने डिजिटल रुपये को जारी करने की योजना बनाई है, जो 2023-24 के दौरान लॉन्च होगी।

Photo of author

Reported by अतुल कुमार

Published on

RBI Digital Rupee: प्रकार, उपयोग और विशेषताएं

RBI Digital Rupee: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 1 दिसंबर, 2022 से डिजिटल रुपये (e₹-R) को पेश किया है। यह भारत की आधिकारिक डिजिटल मुद्रा है और इसे भारतीय रुपये के समान माना जाएगा।

डिजिटल रुपया एक CBDC है, जिसका अर्थ है कि इसे एक केंद्रीय बैंक द्वारा जारी किया जाता है। यह कानूनी निविदा है और इसे अन्य सभी मुद्रा के समान माना जाता है। आइए जानते हैं इस सम्पूर्ण जानकारी को।

डिजिटल करेंसी क्या है?

डिजिटल करेंसी एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा है जिसे वास्तविक मुद्रा के रूप में स्वीकार किया जाता है। इसे ऑनलाइन या मोबाइल ऐप का उपयोग करके खरीदा, बेचा या भुगतान किया जा सकता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

डिजिटल करेंसी दो प्रकार की होती हैं:

  • केंद्रीय बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC): CBDC को एक देश का केंद्रीय बैंक जारी करता है। यह कानूनी निविदा है और इसे अन्य सभी मुद्रा के समान माना जाता है।
  • प्राइवेट डिजिटल करेंसी (PBDC): PBDC को एक निजी संस्था जारी करती है। यह कानूनी निविदा नहीं है और इसे अन्य सभी मुद्रा के समान नहीं माना जाता है।

ऐसे इस्तेमाल कर सकते हैं  

डिजिटल करेंसी का उपयोग करने के लिए, आपको पहले एक डिजिटल वॉलेट बनाना होगा। डिजिटल वॉलेट एक इलेक्ट्रॉनिक खाता है जिसका उपयोग डिजिटल करेंसी को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है। एक बार जब आपके पास डिजिटल वॉलेट हो जाता है, तो आप डिजिटल करेंसी खरीद सकते हैं। डिजिटल करेंसी खरीदने के लिए, आपको एक बैंक या वित्तीय संस्थान से संपर्क करना होगा।

डिजिटल करेंसी का उपयोग करने के लिए, आपको बस अपने डिजिटल वॉलेट से डिजिटल करेंसी को स्थानांतरित करना होगा। डिजिटल करेंसी को स्थानांतरित करने के लिए, आप QR कोड स्कैन कर सकते हैं या एक यूनिफॉर्म रीडर-रेस्पॉस (यूआरआई) का उपयोग कर सकते हैं।


नहीं मिलेगा कोई ब्याज डिजिटल करेंसी पर

आपको बता दें कि डिजिटल करेंसी पर कोई ब्याज नहीं दिया जाता है। इसका कारण यह है कि डिजिटल करेंसी एक मुद्रा है, न कि एक निवेश। मुद्रा का उद्देश्य मूल्य के भंडार और लेनदेन के माध्यम के रूप में कार्य करना है, जबकि निवेश का उद्देश्य धन बनाने के लिए है। मुद्रा पर ब्याज देने से मुद्रास्फीति हो सकती है। यदि मुद्रा पर ब्याज दिया जाता है, तो लोग अपनी मुद्रा को बैंक में जमा करने के बजाय खर्च करने के लिए कम इच्छुक होंगे। इससे मुद्रा की आपूर्ति बढ़ेगी और मुद्रास्फीति बढ़ेगी।

हालांकि, कुछ डिजिटल करेंसी प्रणालियाँ ब्याज प्रदान करने का प्रस्ताव करती हैं। उदाहरण के लिए, कुछ ब्लॉकचेन-आधारित डिजिटल करेंसी प्रणालियाँ उपयोगकर्ताओं को अपनी मुद्रा को होल्ड करने के लिए ब्याज प्रदान करती हैं। हालांकि, ये प्रणालियाँ अभी भी बहुत नई हैं, और यह स्पष्ट नहीं है कि वे सफल होंगी या नहीं।भारत में, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने घोषणा की है कि डिजिटल रुपया पर कोई ब्याज नहीं दिया जाएगा। RBI का कहना है कि डिजिटल रुपया एक मुद्रा है, न कि एक निवेश, और इसलिए इसे मुद्रास्फीति को बढ़ाने से बचाने के लिए ब्याज नहीं दिया जाना चाहिए।

कुल मिलाकर, यह संभावना नहीं है कि डिजिटल करेंसी पर कोई ब्याज दिया जाएगा। इसका कारण यह है कि डिजिटल करेंसी एक मुद्रा है, न कि एक निवेश। मुद्रा पर ब्याज देने से मुद्रास्फीति हो सकती है, और इसलिए अधिकांश केंद्रीय बैंक डिजिटल करेंसी पर ब्याज देने से बचेंगे।

ये बैंक करेंगे डिजिटल रुपये जारी  

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) डिजिटल रुपया नामक एक CBDC को जारी करने की योजना बना रहा है। डिजिटल रुपया 2023-24 के दौरान जारी होने की उम्मीद है।

RBI ने डिजिटल रुपया जारी करने के लिए 8 बैंकों को चुना है। ये बैंक हैं:

  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI)
  • आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank)
  • यस बैंक (YES Bank)
  • आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC First Bank)
  • बैंक ऑफ बड़ौदा (BOI)
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (UBI)
  • एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank)
  • कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank)

Leave a Comment