Kusum Yojana से बढ़ेगी किसान की आय, खत्म होगी गरीबी, राम मंदिर दर्शन के बाद शुरू हुई योजना

प्रधानमंत्री कुसुम योजना भारत सरकार द्वारा किसानों की आय बढ़ाने और कृषि क्षेत्र को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शुरू की गई एक महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के तहत, किसानों को उनके खेतों में सोलर पंप लगवाने के लिए सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है।

Photo of author

Reported by अतुल कुमार

Published on

Kusum Yojana से बढ़ेगी किसान की आय, खत्म होगी गरीबी, राम मंदिर दर्शन के बाद शुरू हुई योजना

किसानों के अच्छे दिन आ गए हैं. सरकार किसानों की आय बढ़ाने और उनकी बेहतरी के लिए कई योजनाएं चला रही है। इनमें से एक महत्वपूर्ण योजना है प्रधानमंत्री किसान कुसुम योजना।

कुसुम योजना किसानों को सौर ऊर्जा और कृषि पंपों को सौर ऊर्जा से चलाने के लिए प्रोत्साहित करती है। इस योजना के तहत, किसानों को सोलर पंप और सोलर पैनल लगाने के लिए 45% तक सब्सिडी दी जाती है। योजना का उद्देश्य किसानों को आर्थिक लाभ प्रदान करना है। तो चलिए जानते है इस योजना में आवेदन कैसे किया जाए।

कुसुम योजना क्या है?

प्रधानमंत्री कुसुम योजना भारत सरकार द्वारा किसानों की आय बढ़ाने और कृषि क्षेत्र को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शुरू की गई एक महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के तहत, किसानों को उनके खेतों में सोलर पंप लगवाने के लिए सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है।

इस योजना के लाभ

  • बिजली बिल में कमी: सोलर पंप लगवाने से किसानों का बिजली बिल काफी कम हो जाता है।
  • आय में वृद्धि: सोलर ऊर्जा बेचकर किसान अपनी आय में वृद्धि कर सकते हैं।
  • पर्यावरण संरक्षण: सोलर ऊर्जा का उपयोग करने से प्रदूषण कम होता है और पर्यावरण का संरक्षण होता है।
  • सिंचाई में आसानी: सोलर पंप से किसानों को अपनी फसलों की सिंचाई करने में आसानी होती है।
  • बंजर जमीन का उपयोग: सोलर पंप से किसान अपनी बंजर जमीन को भी सिंचित कर सकते हैं और उनमें फसल उगा सकते हैं।

Kusum Yojana का उद्देश्य क्या है?

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

देश में किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पम्प की सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सरकार द्वारा कुसुम योजना को शुरू किया गया है। इस स्कीम के तहत केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार मिलकर पेट्रोल और डीजल से चलने वाले सिंचाई पंप को सौर ऊर्जा के पंपों में बदल देगी। अर्थात जो किसान अपने खेतों में बिजली, पेट्रोल तथा डीजल से सिंचाई के पम्प चलाते हैं, इस योजना के शुरू होने से सौर ऊर्जा से पम्प चलाए जाएंगे।

राज्य के अनुसार होता है सब्सिडी का अनुपात

प्रधानमंत्री कुसुम स्कीम के तहत किसानों को उनके खेत में सोलर पंप लगवाने के लिए सरकार सब्सिडी देती है।  ये सब्सिडी केंद्र सरकार और राज्य सरकार की तरफ से प्रदान की जाती है। हर राज्य में सब्सिडी का अनुपात अलग-अलग होता है। अब किसान कम पैसे लगाकर सोलर पंप लगवा सकते हैं और बंजर जमीन में अच्छी सिंचाई करके अच्छा खासा प्रॉफिट कमा सकते हैं।

प्रधानमंत्री कुसुम स्कीम का फायदा इन किसानों को दिया जाएगा

4-5 एकड़ जमीन पर स्थापित सोलर पंप एक साल में 15 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन कर सकता है। यह आपके बिजली बिलों को कम करने और अपनी आय में वृद्धि करने का एक शानदार तरीका है। यदि आप भी किसान है और आपके पास 5 एकड़ से ज्यादा जमीन है तो आप इस स्कीम का लाभ आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

केंद्र और राज्य सरकार अलग-अलग देता है सब्सिडी

सरकार की Kusum Yojana देश के हर किसान के लिए एक लाभकारी योजना है। इस योजना के तहत, किसानों को सोलर पंप लगवाने के लिए सब्सिडी प्रदान की जाती है।

हरियाणा सरकार इस योजना के तहत किसानों को 30% तक सब्सिडी प्रदान करती है। इसके अलावा, केंद्र सरकार द्वारा 45% तक सब्सिडी दी जाती है। इसका मतलब है कि हरियाणा के किसानों को कुसुम योजना के तहत कुल 75% तक सब्सिडी मिल सकती है।

योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

कुसुम योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु आवश्यक दस्तावेज निम्नलिखित हैं-

  • राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • जमीन के दस्तावेज
  • बैंक पासबुक

Leave a Comment